रा लेडीज़ इनरवियर का अहम हिस्सा है। ब्रा जैसी चीज़ खरीदते वक्त हम कई बार संकोच महसूस करते हैं। कभी शर्म की वजह से तो कभी लापरवाही की वजह से हम अपनी ब्रा का सही साइज़ पता करने की कोशिश ही नहीं करते और मानकर चलते हैं कि जो खरीद लिया, वही सही है। एक रिसर्च के अनुसार अमूमन 10 में से 8 महिलाएं गलत साइज़ की ब्रा पहनती हैं, जिससे शरीर की शेप खराब होती है।

हर कंपनी का ब्रा साइज़ अलग होता है और हमारा ब्रेस्ट साइज़ भी बदलता रहता है, इसलिए जरूरी है कि हम समय- समय पर सही तरीके से अपनी ब्रा और खासतौर से अपनी ब्रा के कप साइज़ को नापें। हम आपको बता रहे हैं कैसे आप अपनी ब्रा का सही साइज जानें, ताकि अगली बार लेडीज़ ब्रा खरीदते वक्त आपको साइज़ के बारे में न सोचना पड़े।

ब्रा क्या है – What is Bra

ब्रा, एकदम चोली की तरह होती है लेकिन उससे छोटी। ये एक अंडरगारमेंट है जो स्तनों को ढंकने और उन्हें सपोर्ट देने का काम करता है। दरअसल, स्तन में कपूर लिगामेंट (Cooper Ligament) होते हैं जोकि ज्यादा मजबूत नहीं होते हैं। अगर कोई महिला ब्रा नहीं पहनती है तो ये लिगामेंट ढीले पड़ने शुरू हो जाते हैं और स्तन लटकने शुरू हो जाते हैं। इसके अलावा स्तनों में दर्द भी शुरू हो जाता है। ब्रा, स्तनों को सपोर्ट देती है और कई तरह की दिक्कतों से भी बचाती है।

ब्रा साइज नापने का सबसे सही तरीका

सही साइज की ब्रा पहनना उतना ही जरूरी है जितना कि सही मर्ज में सही दवाई खाना। जी हां यदि आप सही साइज की ब्रा नहीं पहनती हैं तो ये आपके लुक को तो खराब करेगी ही साथ ही आपकी हेल्थ पर भी बुरा प्रभाव डालेगी। भारत में 100 में 80 प्रतिशत महिलाएं गलत साइज की ब्रा पहनती हैं और इसकी वजह ये है कि उन्हें पता ही नहीं होता कि उनके ब्रेस्ट का साइज क्या है।

अपनी ब्रा का साइज पता करने से पहले ये जानना जरूरी है कि ये 32B, 28C, 34A साइज का क्या मतलब होता है? तो आपको बता दें कि 28, 30, 32, 34 ये आपके ब्रेस्ट के नीचे की पसलियों का साइज होता है और इसे बैंड साइज कहते हैं। उसके बाद ये A,B,C,D ब्रेस्ट साइज होता है इसे कप साइज भी कहा जाता है। इसमें A छोटा और D बड़ा साइज होता है।

ब्रा का बैंड साइज कैसे नापें – How to Measure Bra Band Size

अपना बैंड साइज मापने के लिए मेज़रिंग टेप लें और अपनी ब्रा के उस हिस्से को रैप करें जहां ब्रा-कप खत्म होते हैं। मतलब ब्रा का निचला हिस्सा। ध्यान रहे कि टेप बिल्कुल फिट हो, पीछे से ढीला या मुड़ा हुआ न हो। टेप पर जो नम्बर आपको प्राप्त हुआ उसमें 1 और जोड़ें, यह आपका बैंड साइज़ है। अगर आपको ऑड नंबर मिलता है, जैसे 29, 31 इत्यादि, तो इसके अगले इवन नंबर को अपना बैंड साइज़ मान लें। उदाहरण के तौर पर जैसे अगर आपका माप 29 निकला तो आपका बैंड साइज़ 29+1=34 होगा।

टेप को अपने ब्रेस्ट के चारों तरफ घुमाएं, टेप वहां से गुज़रे जहां उनकी साइज़ मैक्सिमम हो, फिर से ध्यान रखें कि टेप कहीं भी ढीला या मुड़ा हुआ न हो। अगर आपको जो संख्या प्राप्त होती है, वह दशमलव में है तो अगले होल नंबर तक राउंड ऑफ करें। ये आपकी ब्रेस्ट-साइज़ है। जैसे अगर इसका माप 34.5 है तो आपका ब्रेस्ट साइज़ 35 है। ब्रा का नाप लेते समय इस बात का ध्यान रखें कि किसी सामान्य दिन ही अपना साइज़ लें, अगर आप मेंस्ट्रुअल फेज में हैं या बीमार हैं तो नापतोल न करें। ब्रेस्ट का नाप लेने के लिए हॉरिज़ॉन्टली बेंड हो जाएं ताकि आपको अपना परफेक्ट साइज़ मिल सके। सीधे खड़े होकर सही साइज़ नहीं मिल सकता।

ब्रा का कप साइज कैसे नापें (How to Measure Bra Cup Size)

अपनी ब्रा का बैंड साइज नापने के बाद अब आप इसी मैजरिंग टेप की मदद से ब्रा का कप साइज नापें। कप साइज नापने के लिए पहले तो टेप अपने ब्रेस्ट के ऊपर रखें और फिर के चारों तरफ की नाप लें। इस दौरान ध्यान रखें कि टेप को ज्यादा कसा करके न नाप लें। टेप को सीधे पकड़े और ब्रेस्ट के उभरे हुई जगह से नाप लें। अपना कप साइज जानने के लिए आपको अपने ब्रेस्ट-साइज़ और बैंड-साइज को अलग करना होगा। जैसे-अगर आपकी ब्रेस्ट साइज 32 है और बैंड साइज़ 31 है तो दोनों का डिफरेंस 1 इंच है जिसका मतलब आपके कप का साइज A है। इसी तरह अगर अंतर 2 इंच है तो आपका कप साइज B है, 3 इंच है तो C है और यह अंतर 4 इंच है तो आपका कप साइज D है।

कैसे पता करें कि आप सही ब्रा साइज पहन रही हैं

अपनी ब्रा का कप साइज़ मापने के बाद वो ब्रा पहनें जिसकी फ़िटिंग आपको सबसे सही लगती हो, ध्यान रहे कि वह अनपैड़ेड हो और आपके ब्रेस्ट को पूरी तरह कवर-अप किये हुए हो।

सही ब्रा का मतलब ये कि ब्रा बैंड (ब्रा की हुक लगाने वाली पूरी पट्टी) बिल्कुल फिट हो और पीठ के बीच में हो।

अगर आप अपने काम करने के लिए हाथ उठाती या घुमाती हैं तो बैंड ऊपर की तरफ न चढ़े, अगर बैंड ऊपर की तरफ जा रहा है तो समझिए कि आपने अपने साइज से बड़ी ब्रा पहनी है।

सामने से भी बैंड आपकी बॉडी से अलग न हो। इस बात का भी ख्याल रखें कि ब्रा-स्ट्रैप और आपके कंधों के बीच एक उंगली की जगह हो, हम आमतौर पर यही समझते हैं कि स्ट्रैप से ही ज्यादा सपोर्ट मिलता है जबकि स्ट्रैप सिर्फ 20% सपोर्ट देते हैं।

अगर आप स्ट्रैप बहुत टाइट रखती हैं तो इसका मतलब है कि ब्रा अनफिट है। दोनों स्ट्रैप्स पीठ पर या तो पैरेलल हों या फिर वी-शेप में हों, यदि वे ए-शेप बना रही हैं तो स्ट्रैप बहुत टाइट है और आप गलत साइज़ की ब्रा पहन रही हैं।

सही साइज की ब्रा पहनने के फायदे

सहज और आरामदायक

अगर आप सही साइज की ब्रा पहन रहे हैं तो इससे आपको काफी आराम और सहजता महसूस होगी। आप आसानी से किसी भी तरह की एक्सरसाइज और काम कर पाएंगे। पसीने को भी सोखने में ये आपकी मदद करेगी।

आत्मविश्वास बढ़ाए (Build Confidence)

महिलाओं के ऊपर हुए कई अध्ययनों में ये साबित हुआ कि जो महिलाएं ब्रा पहनती है वो ब्रा न पहनने वाली महिलाओं की तुलना में खुद को ज्यादा आत्मविश्वासी महसूस करती हैं। क्योंकि ब्रा पहनने के बाद आप किसी भी तरह का डर और शर्म नहीं महसूस करती हैं।

ब्रेस्ट का सपोर्ट मिलता है

दरअसल महिलाओं का ब्रेस्ट जिसे हिन्दी भाषा में स्तन कहते हैं वो वसा युक्त ऊतकों से बना होता है, जिनमें मांसपेशियां नहीं होती है। ऐसे में ब्रा पहनने से स्तनों को एक तरह का सपोर्ट मिलता है। साथ ही इससे स्तनों के नीचे की त्वचा न ही खिंचती है और न ही ढीली पड़ती है।

अट्रेक्टिव दिखें

बहुत से महिलाओं का मानना है कि ब्रा उनके बूब्स को सही शेप देती है जिसके कारण उनके ऊपर हर ड्रेस का परफेक्ट लुक आता है और वो ज्यादा अट्रेक्टिव भी दिखती हैं। इसके अलावा अगर आप सही साइज की ब्रा पहनती हैं तो आपके बूब्स और भी ज्यादा सुडौल और आकर्षक दिखते हैं।

सही बॉडी पोस्चर के लिए

सही ब्रा पहनने का सबसे बड़ा फायदा यही है कि ये आपके बॉडी पोस्चर को भी सही रखती है। क्योंकि स्वस्थ रहने के लिए बॉडी पोस्चर का सही होना बेहद जरूरी होता है। खराब पोस्चर शरीर में कई तरह की दिक्कतें पैदा करने लगता है। इसीलिए किशोरावस्था से ही लड़कियों को सही ब्रा पहनने की सलाह दी जाती है।

ब्रा शॉपिग टिप्स – Bra Shopping Tips

अगर आप ब्रा खरीदने जा रहे हैं तो इन टिप्स को जरूर फॉलो कर लें –

ब्रा खरीदते समय ढीली ब्रा लेते हैं तो आगे जाकर आपको दिक्कत हो सकती है। इसीलिए ब्रा के आखिरी हुक में डालकर जरूर चेक कर लें कि ब्रा ठीक बैठ रही है कि नहीं। इससे आप ब्रा ढीली हो जाने पर भी काफी समय तक उसे यूज कर सकते हैं।

ब्रा अच्छी कंपनी और क्वालिटी की ही खरीदें।

ब्रा ऐसी जगह से खरीदें जहां आप उसे पहनकर ट्राई भी कर सकें।

ऐसी ब्रा बिल्कुल भी न खरीदें जिसके कप से आपके स्तन ज्यादा बाहर निकल रहे हों।

ऐसी ब्रा खरीदें जिसे पहनकर आप आराम से सांस ले पा रहे हों। अगर आप सांस सही से नहीं ले पा रहे हैं तो आपकी ब्रा टाइट है।

रोजाना इस्तेमाल के लिए कभी भी सिंथेटिक फ्रैब्रिक वाली ब्रा न खरीदें।

ब्रा का स्ट्रैप जरूर चेक कर लें। ऐसा स्ट्रैप नहीं होनी चाहिए जो आपके शोल्डर को तकलीफ पहुंचाए।

आप जब ब्रा की शॉपिंग पर गये हैं तो उसे ट्राई करते समय देख लें कि ब्रा बैंड और शोल्डर स्टैप्स के नीचे से आपकी 2 उंगलियां आसानी से अंदर जा रही हैं कि नहीं।

ब्रा ट्राई करते समय आगे की ओर झुक कर देंखे कि क्या आपके ब्रेस्ट बाहर की ओर निकल तो नहीं रहे। अगर ऐसा है तो ये ब्रा आपके लिए फिट नहीं है।

रात को सोते समय ब्रा पहननी चाहिए या नहीं ?

कुछ लोग कहते हैं कि रात में ब्रा पहनकर सोने से शरीर को कोई नुकसान नहीं होता और कुछ लोग कहते हैं कि रात में सोते समय ब्रा नहीं पहननी चाहिए। अब ऐसे में सवाल उठता है कि रात को सोते समय ब्रा पहननी चाहिए या नहीं ? तो हम आपको बता दें कि ये बात पूरी तरह से आप पर निर्भर करती है कि ब्रा पहनकर सोने में या बिना ब्रा पहने सोने में आप कितना सहज महसूस करते हैं।

हालांकि शोध और एक्सपर्ट यही कहते हैं कि रात में टाइट ब्रा पहनकर नहीं सोना चाहिए, इससे आपके शरीर को कई तरह का नुकसान पहुंचता है। यहां तक कि कैंसर होने का खतरा भी ज्यादा बढ़ जाता है। यदि आप रात को ब्रा पहन कर सोना चाहती हैं, तो अपने सहूलियत को देखते हुए हल्की और ढीली ब्रा पहन सकती हैं। एक्सपर्ट्स का मानना है कि जिन महिलाओं के ब्रेस्ट हैवी या बड़े आकार के होते हैं, उन्हें रात को ब्रा पहन कर सोना चाहिए, जिससे उनके ब्रेस्ट ढीले ना पड़ें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here