न्यूज एंकर की बेशर्मी, डिबेट के दौरान प्रवक्ता को दी गालियां…

भारतीय मीडिया अपनी विश्वसनीयता के पैमाने पर बिल्कुल निचले स्तर पर चला गया है. जिस प्रकार से सत्ताधारी दल ने मीडियाकर्मियों को अपनी गुलामी करने को विवश कर दिया है, उससे लोकतंत्र का चौथा खंभा पूरी तरह से ढहने के कगार पर खड़ा है.

मोदी की दलाली के लिए जानी जाने वाली महिला एंकर ने लाइव डिबेट शो के दौरान ऐसा तमाशा किया है जिससे देश का सिर शर्म से झुक गया है.

1. पार्टी प्रवक्ता से पूछी उसकी औकात
हम बात कर रहे हैं आज तक की जानी मानी पत्रकार और न्यूज एंकर अंजना ओम कश्यप की. अंजना को अपनी विद्वता का इतना अहंकार है कि उनका अपने शब्दों पर से नियंत्रण हीं खत्म हो गया है.

दिल्ली की सियासत पर डिबेट चल रही थी. आम आदमी पार्टी की ओर से आशीष खेतान अपना पक्ष रख रहे थें. अंजना से उनसे दिल्ली में अराजकता का सवाल उठाया. आशीष ने कहा कि आप हमें अराजकतावादी मान सकती हैं. महात्मा गांधी भी खुद को अराजक कहते थें.

आशीष का इतना कहना हीं था कि अंजना बिफर पड़ी. ऐसा लगा कि उनके अंदर का शैतान जाग पड़ा. उन्होंने धमकी भरे लहजे में कहा कि आपकी औकात नहीं कि आप इस चैनल की दहलीज पर खड़े हो सकें. एक सम्मानीय व्यक्ति यानी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रति आपने जिन शब्दों का प्रयोग किया है, वह कत्तई स्वीकार नहीं.

2. खुद को बता दिया था मोदी
अंजना ओम कश्यप पीएम मोदी की इतनी बड़ी दिवानी हैं कि उन्होंने तो एक बार आज तक के कार्यक्रम हल्ला बोल के दौरान बाकायदा अपने पति मंगेश कश्यप का सरनेम भूल कर खुद को अंजना ओम मोदी कह दिया था. उनकी इस हरकत की काफी खिंचाई हुई थी.

सोशल मीडिया पर लोगों की यह प्रतिक्रिया थी कि मोदी प्रेम में अंजना ने आज सारी मर्यादा तोड़ दी और खुद को अंजना ओम मोदी कहने लगीं. उनका ये वीडियो खूब वायरल हुआ था.

कुछ यूजर्स ने लिखा था कि इसे कहते हैं बॉस का खौफ. स्टूडियो में जाने के बाद भी अंजना के दिमाग में अपने बॉस का नाम हीं घूमता रहता है. बॉस हो तो ऐसा.

3. खुद को समझती हैं तीसमार खां एंकर
अंजना ओम कश्यप की एंकरिंग देखें तो आपको एहसास हो जाएगा कि इनमें किस कदर अहंकार हावी है. सामने बैठे गैर भाजपा दलों के प्रवक्ताओं से डांट फटकार करती है और कड़ियल स्कूल टीचर की तरह व्यवहार करती है.

सामने बैठे मीडिया पैनलिस्टों से स्टूडेंट की तरह पेश आती हैं. कई कई दफे तो वो खुद हीं भाजपा की प्रवक्ता की तरह व्यवहार करती हैं और सामने वाले से उग्र होने लगती हैं.

अंजना ओम कश्यप जैसी पत्रकारिता का यह नतीजा है कि देश के लोग अब न्यूज चैनलों और विशेषकर डिबेट शो से दूरी बनाने लगे हैं.

loading...