मोदी ने तो नोटबंदी से तबाह किया देश, लेकिन पहली सही नोटबंदी तो इस मुस्लिम ने की थी…

नरेंद्र मोदी का नोटबंदी का फैसला आज से 700 साल पहले दोहराया जा चूका है | 14 वी सदी के सुलतान मोहम्मद बिन तुगलक ने शासन के दौरान पुरानी मुद्रा को बंद कर दिया था और नयी मुद्रा चलवाई थी | हाल ही में मोदी के ही मंत्री यशवंत सिन्हा ने नोटबंदी पर निशाना साधते हुए मोदी की नीतियों की कड़ी निंदा की और उन्हें तानशाह बताया |

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर नोटबंदी को लेकर निशाना साधते हुए यशवंत सिन्हा ने कहा है कि 14वीं सदी के दिल्ली सुल्तान मोहम्मद बिन तुगलक ने भी 700 साल पहले नोटबंदी की थी | इस विवादित कदम के लिए मोदी की आलोचना करते हुए सिन्हा ने कहा कि नोटबंदी ने देश की अर्थव्यवस्था को 3.75 लाख करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाया है |

यशवंत सिन्हा ने याद दिलाया इतिहास और कहा…
उन्होंने यहां एक कार्यक्रम में कहा, ‘बहुत सारे ऐसे शहंशाह (राजा) हुए हैं जो अपनी मुद्रा लेकर आए| कुछ ने नई मुद्रा को चलन में लाने के साथ-साथ पहले वाली मुद्रा का भी चलन जारी रखा| लेकिन 700 साल पहले एक शहंशाह मोहम्मद बिन तुगलक था जो नई मुद्रा लेकर आया और उसने पुरानी मुद्रा के चलन को समाप्त कर दिया|

इसके साथ ही वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) में त्रुटियां बताते हुए यशवंत सिन्हा ने कहा कि देशवासियों का यह मांग करना उचित होगा कि जेटली उन्हें हुई कठिनाइयों के लिए पद छोड़ें|

उन्होंने यह भी कहा कि जेटली, गुजरात की जनता पर बोझ लगते हैं. जेटली गुजरात से राज्यसभा के सदस्य हैं| मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना कर रहे सिन्हा ने यह आरोप भी लगाया कि सभी पहलुओं पर विचार किये बिना जीएसटी को लागू कर दिया गया| पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री सिन्हा ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था को नोटबंदी और जीएसटी के रूप में एक के बाद एक दो झटके लगे|

‘जेटली गुजरात की जनता पर बोझ है’
सिन्हा ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ”हमारे वित्त मंत्री गुजरात से नहीं हैं और वह यहां से राज्यसभा में चुने गये हैं| वह गुजरात की जनता पर बोझ हैं| अगर उन्हें यहां से नहीं चुना जाता तो एक गुजराती को मौका मिलता|” उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री केवल एक व्यवस्था में विश्वास करते हैं कि ”चित्त भी मेरी, पट्ट भी मेरी|”

सिन्हा ने कहा कि अगर जीएसटी की दरें तय करते समय उचित तरीके से ध्यान दिया जाता तो इस तरह की विसंगतियां और अराजकता से बचा जा सकता था|

loading...