यूपी: प्रयागराज में जनवरी और मार्च के बीच होने वाली शादियों पर योगी सरकार का बैन, ये है वजह

आप जनवरी और मार्च 2019 के बीच अपने यहां शादी की प्लानिंग कर रहे हैं तो इसमें आपको बदलाव करना पड़ सकता है। अगर आपको शादी उत्तर प्रदेश के प्रयागराज (इलाहाबाद) में करनी है तो आपको शादी की तारीख बदलनी होगी। अगर पहले प्रयागराज में शादी की प्लानिंग थी तो इससे बाहर जाकर भी शादी कर सकते हैं। योगी आदित्यनाथ सरकार ने अगले साल प्रयागराज में लगने वाले कुंभ के दौरान विवाह समारोहों पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है हालांकि लोग सरकार के इस फैसले से खुश नहीं हैं।।

जिन लोगों ने गेस्ट हाउस, फंक्शन लॉन और कैटरर्स के लिए पहले भुगतान किया था, वे सरकार के इस फरमान से दिक्कत में हैं। सैकड़ों को शादी की तारीख बदलनी पड़ रही हैं। जो कि पहले ही तय हो चुकी थीं, और कई लोग आस-पास के जिले में स्थान बदलने की संभावना तलाश रहे हैं। इससे शादियों के बिजनेस में होने वाले लोगों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि वह अपनी कमाई के लिए पूरी तरह से शादियों के सीजन पर ही निर्भर रहते हैं।

जारी किए गए आदेश के मुताबिक ‘कुंभ स्नान’ से एक दिन पहले और एक दिन बाद शादी की अनुमति नहीं दी जाएगी जो कि अगले साल जनवरी और मार्च के बीच है। जिला प्रशासन द्वारा ऑर्डर की कॉपी शादी हॉल के मालिकों और होटलियरों को भेजी गई हैं, उनसे कहा गया कि वे उस समय के दौरान की सभी बुकिंग रद्द कर दें।

इस तीर्थ यात्रा के दौरान पांच मुख्य ‘स्नान’, पवित्र स्नान होंगे, दो स्नान जनवरी में होंगे। पहला स्नान मकर संक्रांति और दूसरा स्नान पौष पूर्णिमा ‘स्नान’ है। इसके बाद फरवरी में मौनी अमावस्या, बसंत पंचमी और माघी पूर्णिमा ‘स्नान’ और मार्च में महाशिवरात्रि का स्नान होगा। इस वार्षिक अनुष्ठान के लिए बड़ी संख्या में भक्तों के आने की उम्मीद है। आपको बता दें कि सीएम योगी ने प्रयागराज में कुंभ के दौरान गंगा नदी को साफ रखने के लिए 15 दिसंबर, 2018 से 15 मार्च, 2019 तक कानपुर के सभी चमड़े कारखानों को बंद करने का आदेश दिया गया था।

loading...